कुत्ता पालने की संपूर्ण जानकारी। नियम तथा 3 फ़ायदे व 3 नुकसान ।

कुत्ता पालने की जानकारी

कुत्ते पालने के नुकसान | कुत्ता किस रंग का पालना चाहिए | काला कुत्ता पालने से क्या होता है | कुत्ता पालने के फ़ायदे | कुत्ता पालने की जानकारी| घर मैं कौन सा कुत्ता पालना चाहिए


दोस्तों यदि आप एक डॉग लवर हैं और डॉग पालने की चाह रखते है तथा आपको डॉग से संबंधित कोई जानकारी नही है तो एक डॉग को पालने या अपनाने से पहले आपकी मन कई सवाल और उलझन में होंगे।

डॉग से जुड़ी इन्ही सभी सवालों के बारे में हम इस आर्टिकल माध्यम से आपकों बताएंगे की कुत्ते पालने के नुकसान और फायदे क्या हैं घर में पालने के लिए कौन सा कुत्ता सही है?

एक डॉग पालने से पहले वह क्या जरूरी जानकारी एवं बाते है जो आपके लिए जानना बहुत आवश्यक हैं जिस की आप भविष्य होनी वाली दिक्कत व परेशानियों से बच सकें।


डॉग क्यों पालना चाहते हैं?

हर व्यक्ति अपने जरुरत के मुताबिक़ डॉग पालता है कोई अपने घर व संपत्ति की सुरक्षा के लिए तो कोइ अपने शौक के लिए तथा कोई समाज मै अपना स्टेटस मेनटेन करने के लिए एवम कई लोग डॉग को एक परिवार के सदस्य के रूप मै अपनाते है।

दोस्तों एक डॉग को पालने से पहले उसे पालने का मकसद आपकों सुनिश्चित करना होगा तभी आप अपने और अपने परिवार के लिए एक अच्छे नस्ल के डॉग चुनाव कर पाएंगे क्योंकि हर नस्ल कि काबिलियत और स्वभाव अलग अलग होती हैं।


घर में पालने के लिए कौन सा कुत्ता सही है?

वैसे तो हर एक डॉग ब्रीड की एक अपनी विशिष्ट विशेषता और खूबियां होती हैं जिसके लिए वह जानें जाते हैं घर मै पालने के लिए वैसे तो कई बेहतरीन डॉग की ब्रीड्स भारत मै मौजूद हैं।

यदि आपकों एक सामान्या घर मै एक सदस्य के रूप मै एक डॉग चहिए तो आप लेब्राडोर, बीगल,पोमेरेनियन, गोल्डन रिट्रीवर, पग, जैसे नस्लों का चुनाव कर सकते है

लेकिन अगर आप घर और संपत्ति की सुरक्षा के लिय कोई डॉग पालना चाहते है तो जर्मन शेफर्ड, रॉटविलर, डाबरमैन, बॉक्सर जेसे डॉग्स आपके लिए सही साबित होगे यह सभी डॉग्स भारत मै बहुत चर्चित है तथा आसानी सै प्राप्त किए जा सकतें हैं।

यह भी पढ़े


कुत्ता कहा से और कैसे खरीदें?

अधिकतर लोग जो पहली बार कोई डॉग खरीदें है वह एक गलती हमेशा करते की वह एक अपंजीकृत ब्रीडर से डॉग ख़रीद लेते जिस से की आगे आगे चलकर उन्हे डॉग के स्वास्थ्य से संबंधित कई समस्याएं होती है।

हमेशा एक भरोसेमंद व विश्वसनीय पेट स्टोर या ब्रीडर से ही डॉग खरीदें जो की KCI (केनाल क्लब ऑफ इंडिया) द्वारा रजिस्टर्ड हो।

दोस्तों कोई भी डॉग ब्रीड लेने से पहले उस डॉग (पप्पी) के माता पिता के रजिस्ट्रेशन पेपर अवश्य देखें जिस की आपको ब्रीड के स्टैंडर्ड जैसे वजन,हाईट और स्वास्थय के बारे में सभी जानकारी मिल जायेगी इस से आप जो पप्पी ले रहें उसके शरीर के ग्रोथ तथा डेवलेपमेंट तथा स्वास्थय संबंधी मुद्दों अंदाजा लगा सकतें हैं।

इसके अलावा पप्पी की उम्र कम से कम एक माह जरूर हो इस से छोटा पप्पी लेना सही नही हैं तथा इस बात की पुष्टी जरूर किजिए की ब्रीडर ने पप्पी को कैसे स्थान पर रखा है क्या वहा गंदगी तो नहीं हैं या फिर कई सारे पप्पीज को एक ही जगह पर तो नही रखा गया है।


कुत्ता पालने के नियम

कुत्ता पालने की जानकारी

दोस्तों आप कोई भी पालतू जानवर अपनाते तो उसे पालने कुछ सही तरीके व नियम होते उसी प्रकार से एक डॉग को भी पालने के कुछ नियम और कायदे होते जिनके तहत किसी भी डॉग की परवरिश की जाती है तो आईए जानते हैं उन नियमों के बारे मै।

नियम#1

सबसे पहले नियम कि बात करे तो हम वह भोजन हैं भोजन डॉग की बुनियादी जरूरतों मै से एक हैं इसलिये ज़रूरी है की आप अपने कुर्ते को एक पौष्टिक और संतुलित आहार दे जो की उसके बेहतर विकास के लिऐ आवश्यक भी हैं।

नियम#2

डॉग पालने के बाद यह बहुत जरूरी है की आप अपने डॉग के शारीरीक देखभाल व साफ़ सफ़ाई का विषेश तौर पर ध्यान रखें क्योंकि एक गंदा और अस्वच्छ डॉग को कई स्वाथ्य तथा त्वचा संबंधित बियारियाँ होने का खतरा होता हैं

एवं कुत्तों से आप और आपके परिवार को भी संक्रमण हो सकता हैं इसलिए जरूरी है की आप डॉग के शारीरिक सफाई नियमित रूप से करें।

नियम#3

दोस्तों जब भी आप कोई डॉग खरीदते है तो उसकी उम्र छोटी होती है तथा एक छोटी उम्र के डॉग को कई अनेक बीमारी होने का खतरा होता हैं जिस से बचाव लिए आप उन्हे सभी ज़रूरी टीके (वैक्सीन)निर्धारित समय पर पशु चिकित्सक से अवश्य लगवाएं।

नियम#4

डॉग को पालने के बाद उन्हे सामान्य सामाजिक शिक्षा रहने के तौर तरीक़े व ट्रैनिंग देना बहूत आवश्यक होता हैं क्योंकी इक असभ्य और अनट्रेन डॉग आपकों शर्मिंदा और परेशान कर सकता हैं।

यह भी पढ़े


कुत्ता पालना शुभ है या अशुभ

कुत्ता पालना सुभ है या असुभ कई लोग इस बात से सहमत नही होंगे या इसे अंध विश्वास भी कहेंगे क्योंकि आज कल के मॉर्डन युग मैं कुत्ता पालना सुभ या असुभ कैसे हो सकता हैं। लेकिन भारत मै हिंदू धर्म के अनुसार कुत्ता पालना बहुत सुभः माना जाता है।

कुत्ता पालने से घर मै सुख शांति एवं लक्ष्मी का वास होता हैं तथा बुरी नज़र, नेगेटिव एनर्जी घर से दूर रहती हैं और सकारात्मक उर्जा संचार होता हैं शास्त्रों के अनुसार काले कुर्ते को भगवान भैरव का प्रतीक माना जाता हैं।


कुत्ता किस रंग का पालना चाहिए

रंगो का हम भारतीय लोगो के लिए बड़ा महत्व होता हैं लेकिन बात करे हमारे प्यारे पालतू जानवर डॉग के लिए तो यह आप किसी भी रंग का पाल सकते हैं।

लेकिन यदि आप उन लोगो मैं से हैं जो की रंगो को अपने भाग्य और राशि और भविस्य मैं घटित होने वाले चीजों से जोड़ते हैं तो आपको काला ,सफ़ेद या फिर भूरे रंग के कुत्ते का चयन करना चाहिए।



काला कुत्ता पालने से क्या होता है

पुरानी कथाओ मैं ऐसा कहा गया हैं की काले कुत्ते भैरव नाथ के रूप होते हैं एवं अपने परिवार मालिक और अपने क्षेत्र के रक्षक होते हैं जो की नेगेटिव (नकारात्मक ) शक्तिओ को दूर रखते हैं हानिकारक ऊर्जा से हमारी सुरक्षा करते हैं।


कुत्ता पालने के फ़ायदे

कुत्ता पालने की जानकारी

कुर्ते दुनियां भर में पालतू जानवर के रूप जानी जाने वाले एक समझदार, बुद्धिमान प्राणी हैं जो की अपनी विशेषताओं के वजह से हम मनुष्यो के जीवन मै महत्वपूर्ण स्थान रखते है कुर्ते पालने के अनेकों फ़ायदे है।

1. दोस्तों डॉग को मनुष्यो एक अच्छा साथी कहा जाए तो गलत नही होगा अगर आप डॉग को एक साथी घर के सदस्य के रूप मै पाल सकते हैं जिसका चंचल स्वभाव आपकों और आपके घर में मौजूद बच्चों को अपने और आकर्षित करते हैं तथा यह बच्चो के साथ इनका स्वभाव स्नेहपूर्ण होता है एवं उनके साथ यह बहुत खेलते है।

2. सुरक्षा के दृष्टिकोण से भीं डॉग एक बहुत अच्छा विकल्प हैं कई लोग घर मै अकेले रहते है या ऐसे स्थानों मै रहते जहां चोरी और लुट घुसपैठ जैसी घटनाओं का खतरा होता है जिसके लिए आप एक गार्ड डॉग पालना सही वी फायदेमंद होता है।

संपत्ति व खेतों की सुरक्षा के लिए भी डॉग को पालना पसंद करते हैं कई डॉग की नस्ले जेसे जर्मन शेफर्ड, डाबरमैन, ग्रेट डेन बहुत आक्रामक, बुद्धिमान व सतर्क होते हैं जो की इन्हे एक समृद्ध गार्ड डॉग का दर्जा देती हैं।

3. कुर्ते पाल कर आप ब्रीडिंग का बिजनेस भी कर सकते हैं इसमें आप बाजार मै डीमांड के अनुसार अलग अलग प्रकार के डॉग्स की नस्ल को पाल कर उनके पप्पीस को अच्छी कीमत पर बेच सकतें हैं और मुनाफा कमा सकते हैं।

यह भी पढ़े


कुत्ता पालने के नुकसान

जिस प्रकार हर चीज़ के दो पहलु होते है उसी प्रकार से किसी भी डॉग को पालने के फायदों के साथ कुछ नुकसान भी होते हैं जिन्हें जानना ज़रूरी है।

1.जैसा की पहले हम इस बात का जिक्र कर चुके है की यदि आप डॉग की शारीरीक साफ सफाई का ध्यान नहीं रखते हैं डॉग को तथा आपको भी बैक्ट्रियल या फंगल इन्फेक्शन होने का ख़तरा रहता हैं तथा इसके अलावा घर जू, पिस्सू , मक्खी जैसे परजीवी भी घर मै आते हैं।

2. लगभग हर डॉग के साथ यह समस्या होती हैं की वह कभी कभी अनावश्यक बहुत भौंकते है जो की आपको कभी कभी परेशान कर सकती हैं तो अगर आप कोई डॉग पालते है तो आपकों इसके लिए तैयार रहना होगा।

3.जब भी आप कोई डॉग पालते है तो उसकी उम्र छोटी होती जिसके वजह से घर के अंदर ही टॉयलेट और पॉटी करते हैं जिसे आपकों साफ़ करना होगा या फिर आप अपने डॉग बांध कर रखते हैं तो भी आपकों इस समस्या का सामना करना होगा।

4. अगर आप अपने डॉग को घर के अंदर खुला रखते है तो यह आपके बिस्तर तथा अन्य स्थानों पर भी बैठते व सोते हैं यदि आप इस सभी चीजों से कंफर्टेबल हैं तो ठीक हैं नहीं तो यह सब आपकों बहुत असहज लगेगा इसके अलावा यह घर के चीजों को काटकर हानि पहुंचा सकते हैं।


FAQ : कुत्ते पालने की जानकारी

Q : काला कुत्ता पालने से क्या फायदा होता है?

ANS : काले रंग के कुत्ते को भगवन भैरव नाथ का दूत मन जाता हैं काला कुत्ता पालने से संतान सुख की बाधा दूर होती हैं एवं बड़े बुजुर्ग लोगो द्वारा कहा जाता हैं की सुबह शाम अगर काले कुत्ते को रोटी खिलाया जाये तो कर्ज से मुक्ति मिलती हैं।

Q : क्या कुत्ता पालना शास्त्र सम्मत है?

ANS : शास्त्रों के अनुसार कुत्ता पालना अच्छा होता हैं कुत्ते के होने से घर मैं सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता हैं नकारात्मक ऊर्जा घर से दूर रहती हैं एवं यह भी कहा जाता हैं की कुत्ता अपने मालिक पर आने वाली मुसीबत अपने ऊपर ले लेता हैं।

Q : कुत्ता किसका रूप है?

ANS : भैरव नाथ जो की भगवान् शिव के एक अवतार हैं भगवान् शिव ने कुत्ते को भैरव नाथ के वाहन के रूप मैं नियुक्त किया था तथा कुत्ते को भैरव का रूप मन जाता हैं।

SHARE THIS :

Leave a Comment

Your email address will not be published.