रोड व्हीलर डॉग की जानकारी। Rottweiler dog information in hindi

rottweiler dog information in hindi

रॉटविलर डॉग एक गार्ड के रुप मैं जाने जानी वाली डॉग नस्ल है जो की भारत मैं बेहद लोकप्रिय नस्ल है यह एक मस्कुलर और ताकतवर डॉग ब्रीड है जिसका इस्तेमाल कई सुरक्षा संस्थानों मैं भी किया जाता है।

रॉटविलर डॉग एक मध्यम और बड़े आकार के होते है जिसे भारत मैं अधिकतर लोग इसे एक गुस्सैल और खतरनाक डॉग के तौर पर जानते है। इस लेख मैं हम रॉटविलर डॉग के बारे मैं एवं से जुड़े कुछ तथ्यों के बारे में जानेंगे।

इतिहास

रॉटविलर एक बहादुर, शक्तिशाली और बुद्धिमान डॉग की नस्ल है जिसका मूल देश जर्मनी हैं तथा रॉटविलर का नाम रोटविले शहर के नाम पर रखा गया था एवं इसे उस समय काल मैं कसाई वाले के कुत्ते के नाम से भी जाना जाता था। 

जिसका इस्तेमाल एक वर्किंग डॉग के रूप मै छोटी माल गाड़ियों को खींचने और मवेशियों को चराने और उनकी रक्षा के लिए किया जाता था।

19 वी सताब्दी के मध्य मैं जब रेलवे के चलन के बाद रॉटविलर डॉग की उपयोगिता कम होने लगी तथा एक समय यह ब्रीड खत्म होने के कगार पर पहुंच गई थी।

लेकिन प्रथम विश्व युद्ध के दौरान अधिक मात्रा मैं शक्ति शाली डॉग की जरूरत देखी गई जिसमे रॉटविलर डॉग ने एक अहम भूमिका निभाई इसके बाद लोग रॉटविलर डॉग को एक गार्ड अथवा पुलिस डॉग के रूप मै जानने लगे।

सन 1931 मैं रॉटविलर डॉग को आधिकारिक तौर पर अमेरिकन केनाल क्लब द्वारा मान्यता दी गई। तथा 2017 मैं AKC द्वारा इसे अमेरिका के सबसे ज्यादा लोकप्रिय डॉग्स की श्रेणी मैं आठवां स्थान दिया गया।

रोटवीलर स्वभाव

रोड व्हीलर डॉग कैसे होते हैं? रॉटविलर डॉग एक साहसी,आज्ञाकारी और आत्मविश्वास से परिपूर्ण नस्ल है यह कार्य करने के प्रति बेहद उत्सुक रहते है तथा यह अपने अभिभावक और मालिक के बेहद आज्ञाकारी होते एवम अपने परिवार के प्रति सुरक्षा का भाव रखते है।

रॉटविलर डॉग अजनबियों के प्रति बेहद सक्रिय और सतर्क होते है तथा पीछे न हटने पर या परेशान करने पर अक्रामक रवैया अपना सकते है और हमला कर सकते है।

रॉटविलर डॉग एक असामान्य ताकत वाली नस्ल हैं जिसके लिए छोटी उम्र मैं उचित समाजीकरण और प्रशिक्षण बेहद जरूरी है आपकी थोड़ी सी भी गैर जिम्मेदारी रॉटविलर डॉग को बेहद खतरनाक और विनाशकारी बना सकती है।

2008 मैं ब्रीड क्लब द्वारा किए गए एक सर्वे के अनुसार अन्य नस्लों के अपेक्षा औसतन रॉटविलर डॉग अजनबियों के प्रति अधिक अक्रामक होते है।

यह भी पढ़े

रॉटविलर स्वास्थ्य

रॉटविलर एक स्वस्थ्य डॉग ब्रीड है लेकिन कई अन्य नस्लों की तरह ही कुछ सामान्य स्वास्थ्य समस्याएं रॉटविलर मैं देखने को मिलती है अधिकांस जो समस्या रॉटविलर डॉग मैं देखने को मिलती है वह है हिप डिस्प्लेसिया यह मुख्यता आकार अधिक वजनी और बड़े रॉटविलर डॉग्स मैं होती है।

  • इसके अलावा तेजी से बढ़ने के कारण भी रॉटविलर डॉग्स को ऑस्टियोकॉन्ड्राइटिस डिस्केन्स नामक से प्रभावित होते हुए देखा गया है यह रोग कंधे के जोड़ो को प्रभावित करता है।
  • कुछ रॉटविलर डॉग अनुवांशिक रूप से ओस्टियोसारकोमा नामक बीमारी से पीड़ित होते है ओस्टियोसारकोमा एक प्रकार का बोन कैंसर होता है जो की हड्डियों को बनाने वाली कोसिकाओ से शुरू होता है।
  • पार्वों वायरस एक अत्यंत घातक बिमारी है तथा अन्य दूसरी नस्लों की तुलना मैं रॉटविलर डॉग को पार्वो वायरस होने का अधिक खतरा होता हैं।
  • रॉटविलर एक मध्यम आकार की लार्ज डॉग ब्रीड हैं और यदि आप इसे अधिक मात्रा मे फैट वाला भोजन खिलाते है तो इसका वजन तेजी के साथ बढ़ता है और वजन बढ़ने के साथ कई गंभीर बीमारियां गठिया, मधुमेह और प्रजनन संबंधी समस्या भी हो सकती है।

रॉटविलर की शारीरिक संरचना

रॉटविलर डॉग मध्यम से लेकर बड़े आकार के होते है तथा इनकी शारीरिक संरचना बेहद मजबूत और शरीर गठीला होता है। एक व्यस्क रॉटविलर नर डॉग का वजन 50–60 किलोग्राम एवम मादा का 35–50 किलोग्राम तक होता हैं तथा हाइट नर 60–70 सेंटीमीटर और मादा 55–65 सेंटीमीटर तक होता हैं।

सिर

रॉटविलर डॉग का सिर मध्यम आकार का गोलाकार होता हैं तथा दोनो कानों के बीच की दूरी अधिक होती हैं एवं चौड़ा होता है।नाक आकार में गोल और काले रंग के होते हैं।

थूथन न ही ज्यादा लंबे और न ही ज्यादा छोटे होते हैं और नथुने नाक के समान ही काले रंग के होते हैं ऊपरी और निचला जबड़ा काफ़ी मजबूत और चौड़ा होता है एवम जबड़ों और होठों का रंग गहरा काला होता है।

रॉटविलर डॉग के दांतो की संख्या 42 होती है एफसीआई मानकों के अनुसार इसके दांत कैंची के समान होते हैं।

विकिपीडिया मैं किए गए उल्लेख के अनुसार रॉटविलर डॉग की आंखे मध्यम आकार के बादाम के समान होते हैं एवं कान त्रिकोण आकार में होते है औरआगे की ओर झुके हुए होते है।

शरीर

पीट सीधी चौड़ी मध्यम लंबाई में होती है कमर छोटी और मजबूत छाती चौड़ी और फैली हुई रहती है पसलियां उभरी हुई तथा गर्दन मोटी मध्यम आकार के बालों के साथ होता है पूंछ छोटे आकार मैं एवं ऊपर की ओर मुड़ी हुई होती है।

पैर

रॉटविलर डॉग के सामने के दोनो पैर सीधे होते हैं तथा पंजे बाहर के और मुड़े हुए रहते है पीछे के पैर कुछ कुछ जर्मन शैफर्ड के पैरो की तरह ही मुड़े हुए रहते है एवं जांघ मोटे मजबूत और शक्तिशाली होते है पैरो के नाखून छोटे काले और शख्त होते है।

बाल

रॉटविलर के बाल छोटे सीधे तथा मोटे होते हैं एवम बाल डबल कोट मैं मौजूद होते है बाहरी कोट के बाल मोठे तथा मध्यम आकार मैं होते हैं जो की पीट पैर,कान तथा सिर पर भी मौजूद होते हैं एवम अदरूनी कोट गर्दन के निचले हिस्से और और जांघो मैं होता है।

रॉटवाइलर के बालो का रंग हमेशा काला होता है जबकि गर्दन, गाल तथा पैरो के निचले हिस्से के बालो का रंग भूरा होता हैं रॉटविलर के बाल साल मै दो बार झड़ते है इस समय इन्हे अधिक ब्रशिंग की आवश्यकता होती है जिससे की झड़े हुए बाल निकल सके।

यह भी पढ़े

रॉटविलवर का भोजन

रॉटविलर डॉग एक मध्यम आकार की नस्ल हैं जिसकी भोजन की आवश्यकताएं अन्य छोटे नस्लों की अपेक्षा अधिक और अलग होती है रॉटविलर के भोजन की मात्रा और प्रकार इसके उम्र और आकार के अनुसार भिन्न हो सकती है।

रॉटवाइलर भोजन की मात्रा उसके दैनिक गतिविधियों के अनुरूप भी हो सकती है जैसा कि यदि आप रॉटविलर को अधिक व्यायाम, कसरत अथवा घुमाने लेकर जाते है तो संभवत आपको इसे सामान्य की जगह अधिक भोजन देने की आवश्यकता है।

बात करे इसके उम्र के अनुसार भोजन की तो यदि रॉटविलर डॉग अपनी प्रारंभिक उम्र है तो इसे आपको ऐसे भोजन देने की जरूरत है जिसमे की प्रचुर मात्रा मैं आवश्यकता अनुसार सभी पोषक तत्व उपस्थित जो की एक बढ़ते हुए रॉटवाइलर के शरीर के लिए जरुरी खनिज तत्वों की पूर्ति करे एवम भोजन की अवधि दिन मैं कम से कम तीन बार हो।

एक छोटी उम्र के रॉटविलर की तुलना मैं एक व्यस्क रॉटविलर डॉग की भोजन से सम्बन्धित आवश्यकताएं अलग होती है एक व्यस्क रॉटविलर डॉग को उच्च गुणवत्ता वाले पौष्टिक भोजन की आवश्यकता होती।

साथ ही साथ आपको इस बात का भी ध्यान रखना होगा की आप जिस भी भोजन का चुनाव करते है उसमे फैट की मात्रा अधिक न हो अधिक फैट वाले भोजन के कारण इसका वजन तेजी से बढ़ सकता हैं। 

रॉटवेलर की देखभाल

अन्य नस्लों की तरह ही शुरुआती दिनों मै देखभाल की आवश्यकता होती है लेकिन जैसे जैसे यह इसकी उम्र बढ़ती है तो आपको विशेष रुप से इस पर ध्यान देने की आवश्यकता होती हैं।

रॉटविलर डॉग एक गार्ड अथवा पुलिस डॉग के रूप मै जाने जाते है तथा यह बेहद ज़रूरी हो जाता है की उचित तरीके से इनका समाजिकरण हो। 

पुराने समय रॉटविलर का इस्तेमाल छोटी माल गाड़ी वाहक के रूप मै किया जाता था तथा यह अत्यंत जरूरी हैं की नियमित रूप इसे घुमाया जाए कसरत कराया जाए एवं अन्य शारिरिक गतिविधियां कराई जाए। 

रॉटविलर को पालने से पहले आप यह जान ले की इसे घर पर अकेला न छोड़े क्योंकि यह एक पारिवारिक डॉग ब्रीड भी है एवं इन्हे अकेले रहने की आदत बिलकुल भी नही होती है। अकेला छोड़ने पर यह उग्र, असभ्य,अक्रामक और विनाशकारी हो सकते हैं।

रोड व्हीलर डॉग कितना खतरनाक होता है?

अक्सर आपने रॉटविलर से जुड़ी कई खबरे सुनी होगी या किसी अखबार मैं पढ़ा होगा तथा आज कल तो यूट्यूब पर भी इसके अक्रामक होने के और हमला करने के वीडियो मौजूद है।

क्योंकि यह एक गार्ड डॉग ब्रीड है तो यह बेहद ताकतवर होते है एवं इनका अक्रामक और उग्र होना स्वाभाविक होता है। लेकिन यदि आप इनकी परवरिश और प्रशिक्षण सही ढंग से नहीं करते है तो यह ओर भी ज्यादा खतरनाक और बेकाबू हो सकते हैं।

रोड व्हीलर डॉग कितना खतरनाक होता है? इस बात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते की रॉटविलर डॉग को पालने पर अमेरिका तथा यूके के कई राज्यों पर प्रतिबंध लगा हुआ है एवं यह आयरलैंड , मलेशिया, सिंगापुर जैसे देशों मैं इसे पालने पर पूर्ण रूप प्रतिबंधित लगा दिया गया हैं।

एक रॉटविलर डॉग 148 किलोग्राम के दबाव से काटने की क्षमता रखता है तथा सिर्फ अमेरिका मैं सन 2014 मैं सिर्फ रॉटविलर डॉग के काटने से 3 लोगो की जान गई थी।

रॉटविलर की एक अच्छी देखभाल और परवरिश भविष्य मैं आने वाले ऐसी समस्यायों आपको बचा सकती है।

SHARE THIS :

Leave a Comment

Your email address will not be published.