रेबीज इंजेक्शन टाइम टेबल।Dog bite injection dose in Hindi

Dog bite injection dose in Hindi

डॉग बाइट इंजेक्शन साइड इफेक्ट्स| कुत्ता काटने के बाद कितने दिन बाद इंजेक्शन ले| Dog bite injection dose in Hindi| रेबीज इंजेक्शन टाइम टेबल


कुत्ते दुनिया के सबसे वफादार पालतू जानवर माने जाते है यह अपने गुणों और काबिलियत के कारण बेहद पसंद किए जाते है। लेकिन जितने यह समझदार और बुद्धिमान होते हैं उतना ही खतरनाक कुत्ते का काटना होता है।

कुत्ते के काटने से सबसे ज्यादा खतरा रेबीज वायरस का होता है यदि सही समय पर रेबीज के टीके काटे हुए व्यक्ति को ना लगाया जाए तो वह व्यक्ति पागल हो सकता है तथा उसकी मृत्यु भी हो सकती है।

तो यदि किसी व्यक्ति को कुत्ता काटता है तो उसके बाद उसे इंजेक्शन लगाने की क्या प्रक्रिया होती है इस लेख मैं हम इसी विषय के बारे में जानने वाले हैं।

इस लेख में हम कुत्ते के काटने के बाद कितने इंजेक्शन लगते हैं। तथा वह इंजेक्शन कितने समय अंतराल पर लगाए जाते हैं तथा कुत्ते के काटने से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण बातों के बारे में जानेंगे।


कुत्ते का काटना खतरनाक क्यों होता है।

कुत्तों के द्वारा मनुष्य को काटना एक बहुत आम दुर्घटना है। भारत में लगभग हर साल 45 लाख लोग कुत्ते के काटने से प्रभावित होते हैं। कुत्ते के काटने से सबसे ज्यादा खतरा संक्रमण का होता है कुत्तों के काटने में सबसे ज्यादा खतरनाक संक्रमण जो माना जाता है वह होता है रेबीज जिसमें सही समय पर इलाज न किए जाने पर काटे हुए व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।

कुत्ते के काटने को हम तीन श्रेणियों में विभाजित कर सकते हैं।

श्रेणी 1

जिसमें कुत्ते ने किसी व्यक्ति को जीभ से टच किया है या छुआ है तो उस स्थान को अच्छी तरह बहते हुए पानी मैं साबुन या एंटीसेप्टिक लिक्विड से साफ कर ले। तो संक्रमण का खतरा नही होता है।

श्रेणी 2

दूसरी श्रेणी जिसमे यदि कुत्ता किसी व्यक्ति को अपने नाखूनों या दांतो से खरोच लग जाए और कुत्ते का सलाइवा ( लार) उस खरोच पर लग जाए तो ऐसी स्थिति में वैक्सीन ही एकमात्र उपाय है बचाव के लिए।

श्रेणी 3

तीसरी श्रेणी जिसमें यदि कोई कुत्ता किसी व्यक्ति को गंभीर रूप से काटता है और चोट पहुंचाता है तो ऐसी आपको सभी टीके समयानुसार लगवाने अनिवार्य होते है।


कुत्ते काटने के बाद कितने इंजेक्शन लगते हैं। Dog bite injection dose in Hindi

कुत्ते के काटने पर लगने वाले इंजेक्शन की संख्या मैं काफी बदलाव हो चुके है बात करें पहले के समय की तो कुत्ते के काटने पर पीड़ित व्यक्ति को 14 इंजेक्शन लगवाने पड़ते थे लेकिन WHO  ने अपने गाइडलाइन में परिवर्तन करते हुए 5 इंजेक्शन लगवाने की गाइड लाइन तैयार की तथा इस गाइड लाइन को बाद मैं 4 इंजेक्शन का कर दिया गया।


रेबीज इंजेक्शन टाइम टेबल। rabies injection time after dog bite in hindi

कुत्ता काटने के बाद कितने दिन बाद इंजेक्शन ले। कुत्ते के काटने के बाद काटे गए व्यक्ति को 4 इंजेक्शन लगाए जाते है जो कि अलग-अलग समय अंतराल पर नियमानुसार लाए जाते हैं। कुत्ते के काटने पर लगाए जाने वाले रेबीज के इंजेक्शन का टाइम टेबल कुछ इस प्रकार है।

पहला इंजेक्शन 

पहले इंजेक्शन कुत्ते के काटने के बाद लगाया जाता है जो कि उसी दिन लगाया जाता है जिस दिन कुत्ते ने काटा हैं।

दूसरा इंजेक्शन 

कुत्ते के काटने के दूसरे दिन रेबीज का दूसरा इंजेक्शन काटे हुए व्यक्ति को लगाया जाता है।

तीसरा इंजेक्शन

कुत्ते के काटने के सातवें दिन रेबीज का तीसरा इंजेक्शन पीड़ित व्यक्ति को लगाया जाता है लगाया जाता है।

चौथा इंजेक्शन

चौथा और आखिरी इंजेक्शन कुत्ते के काटने के 14 से 28 दिनों के बीच में लगाया जाता है यह सभी इंजेक्शन लगाना बेहद जरूरी होता है।


क्या सभी कुत्तों के काटने पर रेबीज होता हैं।

कई लोगों के मन में यह प्रश्न होता है कि क्या पालतू कुत्ते तथा आवारा कुत्ते दोनों के काटने पर रेबीज होने का खतरा होता है। क्योंकि कई लोग अपने घर पर कुत्ता पालना पसंद करते हैं तथा उन्हें समय अनुसार सभी टीके लगाए जाते हैं। तो क्या ऐसी स्थिति में भी यदि वह पालतू कुत्ता किसी को काटता है तो काटे गए व्यक्ति को रेबीज होने का खतरा रहता है।

यदि किसी व्यक्ति को कोई आवारा या पागल कुत्ता काटता है तो उसे बिना किसी देरी किए डॉक्टर के पास जाना है चाहिए और रेबीज के संपूर्ण टीके लगवाना चाहिए।

लेकिन यदि किसी व्यक्ति को ऐसे कुत्ते ने काटा है जो कि फालतू है और उसे समय पर सभी ठीक है लगे हुए हैं। तो ऐसी स्थिति में रेबीज का खतरा कम हो जाता है।

लेकिन सुरक्षा के मध्य नजर कोई भी जोखिम न लेते हुए रेबीज के सभी टीके लगवाना बेहद जरूरी होता है। क्योंकि यदि ऐसी स्थिति में आपने कोई भी लापरवाही की तो उस व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है।


कुत्ता काटने के बाद कितने दिन बाद इंजेक्शन ले

कुत्ते कुत्ते के काटने के बाद कई लोग यह दुविधा में पड़ जाते हैं कि उन्हें रेबीज वायरस से बचाव के लिए इंजेक्शन कब लगाना चाहिए तो यदि किसी भी व्यक्ति को कोई कुत्ता या अन्य जानवर काटता है तो काटे जाने के 72 घंटों के भीतर एंटी रेबीज का टीका लगवाना बेहद जरूरी और अनिवार्य होता है।


डॉग बाइट इंजेक्शन साइड इफेक्ट्स।rabies injection side effects in hindi

क्या रेबीज इंजेक्शन साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। यदि किसी व्यक्ति को कुत्ते ने काटा है वह रेबीज के संपूर्ण टीके लगवाता है तथा उसके बाद भी इन टीकों के कुछ साइड इफेक्ट्स होने के खतरे होते हैं।

यह साइड इफेक्ट सभी लोगों में देखने को नहीं मिलते हैं यह साइड इफेक्ट्स होने के कुछ प्रतिशत मौके होते हैं। तथा यह साइड इफेक्ट सामान्य और कुछ दिनों के लिए ही होते हैं। जो कि आमतौर पर नॉर्मल किसी भी वैक्सीन के इस्तेमाल के बाद देखने को मिलते हैं।

रेबीज इंजेक्शन के साइड इफेक्ट

  • सिर दर्द
  • जोड़ो मैं दर्द
  • इंजेक्शन वाली जगह पर लाल पड़ जाना
  • इंजेक्शन वाली जगह पर सूजन
  • समान्य बुखार

कुत्ते के काटने पर लगाए जाने वाले इंजेक्शन का नाम।

कुत्ते के काटने पर लगाए जाने वाले इंजेक्शन को एंटी रेबीज वैक्सीन के नाम से जाना जाता है जिसे भारत में कई अलग-अलग प्रीति दवाइयां बनाने वाली कंपनियां बनाती है।


शनिवार को कुत्ता काटने से क्या होता है

कई लोग इस बात से बड़े चिंतित रहते हैं कि यदि उन्हें शनिवार के दिन किसी कुत्ते ने काट लिया तो वह बेहद अशुभ होता है। शनिवार के दिन कुत्ते का काटना बुरी किस्मत का आगमन कहा जाता है।

लेकिन यह बात हर व्यक्ति के अनुसार अलग-अलग हो सकती है यदि आप इन सभी बातों पर विश्वास करते हैं तो आपके लिए यह एक गंभीर विषय हो सकता है तथा आप इसके लिए वह चिंतित और परेशान रह सकते हैं।

लेकिन यदि कोई व्यक्ति इस बात पर विश्वास नहीं करता है तो उसके लिए यह का आम बात है तथा वह इसे लेकर बिल्कुल भी चिंतित और परेशान नहीं रहेगा।

पुराने समय के लोगो तथा इन पर विश्वास करने वाले लोगो के लिए शनिवार के दिन कुत्ते का काटना अशुभ हो सकता है वही अभी के मॉर्डन युग के लोग इसे सिर्फ अंधविश्वास ही मानेंगे।

SHARE THIS :

Leave a Comment

Your email address will not be published.